🙏🙏

गुरू कृपा ही केवलम्🌷
“आत्मविश्वास”
लक्ष्य जितना बडा होगा, मार्ग भी उतना ही बडा होगा और बाधाएँ भी अधिक आयेंगी ।यदि आपकी महत्वाकांक्षा /लक्ष्य बडी होगी तो उसके लिए सामान्य आत्मविश्वास नहीं बहुत उच्च स्तरीय आत्मविश्वास चाहिए।एक क्षण के लिए भी निराशा आयी वहीं लक्ष्य मुश्किल और दूर होता चला जायेगा ।
मनुष्य का सच्चा-साथी और हर स्थिति में उसे सँभालने वाला अगर कोई है तो वह आत्मविश्वास ही है ।आत्मविश्वास हमारी बिखरी हुई समस्त चेतना और ऊर्जा को एकत्रित करके लक्ष्य की ओर ले जाता है।
दूसरों के ऊपर ज्यादा निर्भर रहने से आत्मिक दुर्बलता तो आती ही है, साथ में छोटी छोटी ऐसी बाधाएँ आती है, जो पल भर में आपको विचलित कर जाती है ।इसलिए स्वयं पर भरोसा रखिए।दुनिया में ऐसा कुछ नहीं है ,जो आपके दृढ-संकल्प से बडा हो।
हमारे पूज्य गुरुदेव के सौजन्य से🙏

Advertisement