🙏🙏

गुरू कृपा ही केवलम्🌷
“प्रकृति एक सीख”
जीवन तब जटिल बन जाता है जब हम सीखना बंद कर देतेहैं।यह संपूर्ण प्रकृति हमें एक सीख प्रदान करती है ताकि हम उससे कुछ सीख कर अपने जीवन को सरल ,खुशहाल व आनंदमय बना सके।
चींटी से मेहनत, बगुले से तरकीब और मकडी से कारीगरी ,ये हमें जीवन में सीखनी चाहिए ।नन्ही सी चींटी महीने भर मेहनत करती है और साल भर आराम और निश्चिंतता से अपना जीवन जीती है।बिना मेहनत के जीवन खुशहाल और निंश्चित नहीं बन सकता है ये उस नन्हीं सी चींटी की सीख है।
वैसे तो बगुले को उसके ढोंग के लिए ही जाना जाता है, मगर बगुले का वह ढोंग भी मनुष्य को एक बहुत बडी सीख दे जाता है कि रास्ते बदलो पर लक्ष्य नहीं बदलो ।कभी कभी बहुत मिहनत के बाद भी कार्य सिद्ध नहीं हो पाता है, मगर वही कार्य कम मिहनत मे भी सिद्ध हो सकता है, बस आपके पास उसकी तरकीब अथवा तरीका होना चाहिए।
मकडी हमें रचनात्मकता की सीख देती है ।अगर हम सदैव कुछ रचनात्मक करने के लिए प्रतिबद्ध होते हैं तो एक दिन हम पायेंगे कि हमारी रचनात्मकता सृजन का रूप ले चुकी होती है और एक नया अविष्कार हमारे द्वारा संपन्न हो चुका होता है।कारीगरी मानव जीवन का अहम् पहलू है।मकडी की तरह अपने कार्य में निष्ठापूर्वक व्यस्त रहिए, मगर केवल जीवन के उलझनों मे कभी भी अस्त-व्यस्त नहीं रहना चाहिए।
हमारे पूज्य गुरुदेव के सौजन्य से🙏

Advertisement